21 अगस्त को लगेगा पूर्ण सूर्यग्रहण

कलम का तिलक,बेंगलुरू।19 अगस्त।आने वाली 21 अगस्त को साल 2017 का दूसरा सूर्यग्रहण दिखाई देने वाला है।यह पूर्ण सूर्यग्रहण होगा जो कि यूरोप, उत्तर पूर्व एशिया, उत्तर- पश्चिम अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका , दक्षिण अमेरिका, प्रशांत, अटलांटिक, आर्कटिक की ज्यादातर हिस्सो में दिखाई देगा। 21 अगस्त को पूर्ण सूर्य ग्रहण, जानिए सूरज का सही ‘अर्थ’ आपको बता दें कि पूरे 99 साल के बाद ऐसा अवसर आ ऱहा है जब अमेरिकी महाद्वीप में ‘पूर्ण सूर्यग्रहण दिखाई’ देगा इसलिए नासा की ओर से इसका लाइव टेलिकास्ट किया जाएगा। मालूम हो कि जब चन्द्रमा, पृथ्वी और सूर्य के मध्य से होकर गुजरता है तो उसे ‘सूर्यग्रहण’ कहते हैं, जिससे

Solar-Eclipse-on-21st-August

धरती के कुछ हिस्सों से सूर्य नजर नहीं आता है।
 ‘पूर्ण सूर्यग्रहण’ जब चंद्रमा द्वारा सूर्य को पूरी तरह ढक लिया जाता है तो ‘पूर्ण सूर्यग्रहण’ होता है। जब चंद्रमा सूर्य के कुछ हिस्से को ढकता है तो ‘आंशिक सूर्यग्रहण’ और जब सूर्य के मध्य का हिस्सा कवर होता है तो उसे ‘वलयाकार सूर्य ग्रहण’ कहते है। 2034 तक का इंतजार 2034 तक का इंतजार सूर्य ग्रहण को लेकर हिंदू धर्म में काफी कुछ कहा गया है इसलिए ग्रहण के लिए भारतीय काफी सजग रहते हैं और इसी कारण अधिकांश लोगों के दिमाग में ये बात चल रही है कि क्या 21 अगस्त को पड़ने वाला सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई देगा तो इसका उत्तर नहीं है। भारत वासियों को ‘पूर्ण सूर्य ग्रहण’ का दर्शन करने के लिए 2034 तक का इंतजार करना होगा।  ये ‘पूर्ण सूर्य ग्रहण’ पाकिस्तान, चीन,मध्य अफ्रीका और मध्य पूर्व के देशों में भी नजर आएगा। रात्रि 9 बजकर 16 मिनट से आरंभ होगा 21 अगस्त 2017 को जब भारत में रात होगी तो उस वक्त अमेरिका में भी घना काला अंधकार छा जाएगा। भारतीय समय के अनुसार यह सूर्यग्रहण 21 अगस्त की रात्रि 9 बजकर 16 मिनट से आरंभ होगा और रात्रि में 2 बजकर 34 मिनट पर समाप्त होगा।

Sahre This News